कंप्यूटर के प्रकार और उनका विवरण संपूर्ण जानकारी

कंप्यूटर आधुनिक तकनीक के चमत्कारों में से एक है, आज की दुनिया में कंप्यूटर बहुत जरूरी हो गया है। आज मै आपको बताऊंगा की कंप्यूटर के प्रकार कितने है तथा इनका विवरण सरल शब्दों में देने की कोशिस करूँगा। जैसा की हम जानते है की कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है। जो की डेटा प्राप्त करता है, निर्देशों के अनुसार डेटा को प्रोसेस करता है, डेटा संग्रहीत करता है और वांछित आउटपुट हमे देता है।कम्प्यूटर के प्रकार उनकी उपयोग, गति और आकार पर आधारित है। इन सभी प्रश्नों का जबाब बहुत ही आसान शब्दों में दूंगा।कंप्यूटर के प्रकार (Types of Computer) और उनका विवरण (हिंदी)

कंप्यूटर के प्रकार (Types of Computer)

कंप्यूटर मानव जाति के उज्ज्वल रचनाओं में से एक है। कंप्यूटर बहुत सारे कार्यों को एक समय पर कर सकते हैं कुछ कंप्यूटर इतने शक्तिशाली हैं कि सैकड़ों या हजारों उपयोगकर्ता केवल एक ही समय पर उपयोग कर सकते हैं। कंप्यूटर के प्रकार विभिन्न क्षमताओं और विभिन्न आकारों के है। कंप्यूटर का वर्गीकरण, उपयोग, गति और कंप्यूटर के आकार पर आधारित है।

अनुप्रयोग के आधार (According To Application) पर कंप्यूटर के प्रकार को तीन भागो में बाटा गया है ।

  1. एनालॉग कम्प्यूटर : एनालॉग कम्प्यूटर (Analog Computer) वैसे कंप्यूटर होते है जिनका इस्तेमाल भौतिक मात्राओ को जैसे – तापमान, दाब, गति, वोल्टेज, प्रतिरोध इत्यादि का मापन करते है न कि गणना करते है। इनका प्रयोग अनुसंधान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में किया जाता है।
  2. डिजिटल कम्प्यूटर : डिजिटल कम्प्यूटर (Digital Computer) वैसे कंप्यूटर होते है जिनका इस्तेमाल सभी कार्यो को डिजिट के रूप में करते है जिसे बाइनरी नंबर सिस्टम कहते है । यह 0 और 1 पर कार्य करते है,हम विभिन्न अनुप्रयोगों जैसे शिक्षा, बैंकिंग, व्यापार, मनोरंजन इत्यादि मै डिजिटल कंप्यूटर का इश्तेमाल करते है और आजकल ये काफी प्रसिद्ध है।
  3. हाईब्रिड कम्प्यूटर : हाईब्रिड कम्प्यूटर (Hybrid Computer) वैसे कंप्यूटर होते है जिनमे हाइब्रिड और डिजिटल दोनों कंप्यूटर के गुण होते है। उदाहरण के लिए हाईब्रिड कम्प्यूटर का इस्तेमाल चिकित्सा मे अधिक होता है , जैसे की किसी रोगी का रक्तचाप, धड़कन, इत्यादि मापने के लिए एनालॉग यंत्र का इस्तेमाल करने की जगह हम हाईब्रिड कम्प्यूटर का इस्तेमाल कर एनालॉग डाटा को पहले डिजिटल डाटा के रूप में बदलते है फिर परिणाम डिजिटल रूप में स्क्रीन पर प्रदर्शित होता है।

कार्य क्षमता के आधार (According to Purpose) पर कंप्यूटर के प्रकार को चार भागो में बाटा गया है ।

  1. माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer) : माइक्रो कंप्यूटर को व्यक्तिगत कंप्यूटर (Personal Computer) के रूप में भी जाना जाता है, यह एक डिजिटल कंप्यूटर है जो माइक्रोप्रोसेसर पर काम करता है।माइक्रो कंप्यूटर व्यक्तिगत उपयोगकर्ता के लिए डिज़ाइन की जाने वाली व्यक्तिगत कंप्यूटर हैं जो वर्ड प्रोसेसिंग (Word Processing), डेस्कटॉप प्रकाशन (Desktop Publishing)और अकाउंटिंग (Accounting) जैसे कार्य करता है। मनोरंजन प्रयोजनों के साथ-साथ गेम (Game) खेलना, संगीत सुनना (Listening Music), इन्टरनेट का प्रयोग (Internet Browsing),और फिल्में देखने (Movie Watching) के लिए माइक्रो कंप्यूटर व्यापक रूप से उपयोग की जाती हैं, ये कंप्यूटर छोटे आकार (Small Size)का कम लागत (Low Cost) और पोर्टेबल (Portable) होता हैं।
  2. मिनी कंप्यूटर (Mini Computer) : मिनी कंप्यूटर एक मध्य आकार के बहु प्रसंस्करण (Multiprocessing) और बहु उपयोगकर्ता (Multi-User) कंप्यूटर है। बहुप्रोसेसिंग (Multiprocessing) एक निश्चित समय पर कई प्रोग्राम या प्रक्रिया चलाने की प्रक्रिया है। मिनी कंप्यूटर एक मध्यम श्रेणी का कंप्यूटर है। इसे मध्य श्रेणी सर्वर (Server) के रूप में भी जाना जाता है माइक्रो कंप्यूटरों और मेनफ्रेम के बीच की श्रेणी का कंप्यूटर है। यह व्यापार, संगठनों में खातों के रखरखाव और वित्तीय डेटा और अनुप्रयोगों के लिए उपयोग किया जाता है। मिनीकंप्यूटर अधिक शक्तिशाली हैं और यह माइक्रो कंप्यूटर के साथ अनुकूल (Compatible) है।
  3. मेनफ़्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer) : मेनफ्रेम विशाल कंप्यूटर होते है, इतने बड़े आकर के होते है, जो की पूरे कमरे या फर्श छेंक लेते है। मेनफ्रेम बड़ी कंपनियों में केंद्रीकृत सेवा देने के रूप में उपयोग किया जाता है। वे केंद्रीकृत कंप्यूटिंग की सेवा के उद्देश्य से डिजाइन किए जाते है। कंप्यूटिंग के क्षेत्र में विकास के साथ, मेनफ्रेम का आकार कम हो गया है और प्रसंस्करण क्षमता में वृद्धि हुई है। वे अब कंप्यूटिंग नेटवर्क में वितरित उपयोगकर्ताओं और छोटे सर्वरों को सेवा देते हैं.वे भी एंटरप्राइज़ सर्वर के रूप में जाने जाते हैं मेनफ्रेम बहुत बड़े और महंगे कंप्यूटर है। हजारों लोग एक समय में मेनफ्रेम का उपयोग कर सकते हैं यह हर दिन लाखों लेनदेन की प्रक्रिया कर सकता है मेनफ्रेम व्यापक रूप से बड़ी कंपनियों में दुनिया भर में उपयोग किया जाता है सरकारी संगठनों में मेनफ्रेम व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है आईबीएम सिस्टम z10 मेनफ्रेम कंप्यूटर का एक उदाहरण है।
  4. सुपर कंप्यूटर (Super Computer) : सुपर कंप्यूटर ऐसे कंप्यूटर होते है जो की बहुत तेज और आकर मे बड़े कम्प्यूटर होते है। इनका इस्तेमाल सरकारी या बड़े संगठनों में मौसम विज्ञान की जानकारी,उपग्रह,अंतरिक्ष यात्रा,सैन्य और वैज्ञानिक अनुसंधान मे इस्तेमाल किये जाते है।इनमे एक से अधिक C.P.U. होते है, जिससे इनकी गति सबसे अधिक तेज़ व अधिक क्षमता वाले कंप्यूटर होते हैं|ये सुपर कंप्यूटर सबसे महँगे औरआकार में बहुत बड़े होते हैं| भारत का पहेला सुपर कंप्यूटर परम 8000 है, जीशे 1 जुलाई, 1991 में उन्नत कंप्यूटिंग के विकास के लिए बनाया गया तथा इश्का शुभारंभ किया गया था, यह सुपर कंप्यूटर C-DAC द्वारा बनाई गई थी। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें।

निष्कर्ष (Conclusion)

प्रिय पाठकों, मै आशा करता हु की आपको हमारा कंप्यूटर के प्रकार पर लिखा हुआ लेख काफी पसंद आया होगा। अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे जरुर अपने दोस्तों के साथ शेयर करे। हमने कंप्यूटर के प्रकार और इनको कितने भागो में बाटा गया है हमने ये कोशिस किया है, की आपको आसन और विस्तृत रूप में वर्णन कर सके। कंप्यूटर के प्रकार को अनुप्रयोग के आधार तथा कार्य क्षमता के आधार पर वर्णन किया है, अगर आपको कोई भी उलझन हो तो निचे कमेंट करे। यदि आप हमसे सम्पर्क करना चाहते या आपके पास कोई सुझाव है तो आप हमसे संपर्क करे। हम आपके सुझाव का स्वागत करते हैं, मैं आशा करता हुँ की आपको हमारी कंप्यूटर के प्रकार पर लेख पसंद आयी होगी। हम जल्द ही इसकी मोबाइल-एप्प भी आप तक लाने का प्रयास करेंगे। हमारी यूट्यूब चैनल देखने के लिए यहाँ क्लिक करे |

यह भी जानें –

आशा है आपको ये शानदार पोस्ट पसंद आई होगी. 
इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है।
loading...

5 Comments

  1. Ayush Mehrotra 05/08/2017
  2. RAYSING VALVI 13/10/2017
    • Shivam Pandey 13/10/2017
  3. Abhishek Vanshakar 25/01/2018
error: DMCA Protected !!