कंप्यूटर मेमोरी क्या है और उनके प्रकार – आइए जानें!

कंप्यूटर मेमोरी क्या है (Computer Memory And Its Types) और उनके प्रकारकंप्यूटर मेमोरी क्या है ये मेमोरी हमारे मस्तिष्क की तरह है जो पिछले कार्यों को संग्रहीत (Store) और याद रखने में सक्षम होती है। इसी प्रकार, कम्प्यूटर में टर्म मेमोरी (Memory) एक चिप को दर्शाती है जो डेटा को स्टोर करती है। यह हमें संग्रहीत डेटा को पुनः प्राप्त करने में सक्षम बनाती है। ये डेटा को प्रोसेसिंग करने के लिए मेमोरी में संग्रहित डेटा और निर्देश पुनर्प्राप्त करता है। मेमोरी की भंडारण क्षमता (Storage Capacity) मेमोरी पैकेज के प्रकार(Type of Memory Package) पर निर्भर करता है।इनपुट यूनिट्स द्वारा कंप्यूटर सिस्टम में दर्ज किए गए डेटा और निर्देश कुछ स्टोरेज मीडिया के द्वारा कंप्यूटर में स्टोर किए जाते हैं। यह भंडारण मीडिया (Storage Media) को मेमोरी (Memory) के रूप में जाना जाता है।

कंप्यूटर मेमोरी क्या है ?(What is Computer Memory?)

मेमोरी एक कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण फंक्शन है जहां सभी डेटा और जानकारी बाइनरी अंकों (0 और 1) के रूप में संग्रहीत की जाती हैं। मेमोरी एक कंप्यूटर सिस्टम है जो डेटा और निर्देशों  के प्रोसेसिंग बाद पुनर्प्राप्ति के लिए आवश्यक है। कंप्यूटर सिस्टम निर्देशों और डेटा को संग्रहीत करने के लिए विभिन्न उपकरणों का उपयोग करता है। जो इसके संचालन के लिए जरूरी है आम तौर पर हम कंप्यूटर को दो मूल श्रेणियों (Categories) में वर्गीकरण करते हैं। डेटा और निर्देश मेमोरी के दो मुख्य कार्य हैं: कंप्यूटर में प्रोग्राम, डेटा और सूचना को स्टोर करने के लिए गणना के परिणामों को संग्रहित करने के लिए मेमोरी की आवश्यकता होती है। अब तो आप कंप्यूटर मेमोरी क्या है जान ही चुके होने अब कंप्यूटर मेमोरी की इकाइयों के बारे में जान लेते है।

कंप्यूटर मेमोरी की इकाइयां (Computer Memory Units)

  • 8 Bits = 1 Bytes
  • 1 KB = 1024 Bytes
  • 1 MB = 1024 KB
  • 1 GB = 1024 MB
  • 1 TB = 1024 GB
  • 1 PB = 1024 TB

अब तो आप कंप्यूटर मेमोरी क्या है और कंप्यूटर मेमोरी की इकाइयों के बारे में जान चुके है अब कंप्यूटर मेमोरी के प्रकार के बारे में जान लेते है।

कंप्यूटर मेमोरी कितने प्रकार की होती है ? (Types of Memory)

मेमोरी को दो प्रकार की Volatile Memory और Non-Volatile Memory होती है। Volatile Memory अस्थायी रूप से डेटा संग्रहीत करता है जैसे ही सिस्टम की Power Supply बंद हो जाती है, यह डेटा खो देता है Non-Volatile Memory डेटा स्थायी रूप से संग्रहीत करता है भले ही सिस्टम की विद्युत आपूर्ति (Power Supply) बंद हो।

आगे, मेमोरी को प्राइमरी (Primary), फ्लैश (Flash) और कैश (Cache) मेमोरी में वर्गीकृत किया गया है।

प्राइमरी मेमोरी (Primary Memory)

प्राइमरी मेमोरी ऐसी मेमोरी होती है जिसके द्वारा डाटा, सूचना, एवं प्रोग्राम को अस्थायी (Temporary) रूप से स्टोर किया जाता है। प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर पर स्थापित मेमोरी की कुल राशि है। उदाहरण के लिए, अगर कंप्यूटर में दो 1 जीबी मेमोरी मॉड्यूल स्थापित हैं, तो इसमें कुल 2 जीबी प्राइमरी मेमोरी है। प्राइमरी मेमोरी को रैम (RAM) और रोम (ROM) में बिभाजित किया गया है। कंप्यूटर मेमोरी क्या है और कंप्यूटर मेमोरी के कितने प्रकार है उसके बाद रैम क्या होता है? चलिए जान लेते है।

रैम (RAM) क्या होता है ? (What is RAM?)

रैम (Random Access Memory) एक अर्धचालक (Semiconductor) आधारित मेमोरी है यह एक अस्थिर (Temporary) मेमोरी है। यह सीपीयू या अन्य हार्डवेयर डिवाइस से डेटा रीड और राईट कर सकता  हैं। यह अस्थायी रूप से डेटा को संग्रहीत करता है सिस्टम को बंद कर दिया जाये तो, यह डेटा खो देता है परिणामस्वरूप, RAM को अस्थायी डेटा संग्रहण क्षेत्र (Temporary Data Storage Area) के रूप में प्रयोग किया जाता है।

रैम मुख्यतः दो प्रकार की होते  है –

  1. Static Random Access Memory (SRAM)
  2. Dynamic Random Access Memory (DRAM)
  • Static RAM :- SRAM अर्धचालक (Semiconductor) मेमोरी का एक प्रकार है। यह तब तक डेटा संग्रहीत करता है जब तक सिस्टम को बिजली की आपूर्ति की जाती है। एक बार बिजली बंद हो जाती है, तो SRAM में संग्रहीत डेटा खो जाता है SRAM प्रत्येक मेमोरी सेल के लिए छह ट्रांजिस्टर का उपयोग करता है सेल में मौजूद ट्रांजिस्टर के अधिक संख्या के कारण, मेमोरी सेल्स बार बार रिफ्रेश नहीं होते है अतः डेटा लंबी अवधि के लिए जमा रहता है एक सेल को रिफ्रेश करने का मतलब एक सेल में डेटा को फिर से Re-write करना। SRAM डेटा को बहोत तेज़ी से Acess करता है । SRAM की डेटा तक पहुँचने वाला गति कैश मेमोरी की तरह व्यवहार करता है अतः इसे Cache RAM भी करते है DRAM की तुलना में SRAM महंगा होता है। SRAM का उदाहरण सभी प्रकार की कैश मेमोरी (Cache Memory) है।
  • Dynamic RAM :- DRAM में डेटा का Lifetime बहुत कम होता है। डेटा लगभग चार मिलीसेकेंड के लिए है DRAM मेमोरी सेल्स में संग्रहित होता है प्रत्येक मेमोरी सेल्स में एक ट्रांजिस्टर (Transistor) और एक कैपासिटर (Capcitor) की एक जोड़ी होती है। प्रत्येक मेमोरी सेल को थोड़ा डेटा के रूप में संदर्भित किया जाता है, छोटी-छोटी सूचना की जानकारी जो सिस्टम के साथ काम कर सकती है। DRAM की मेमरी सेल DRAM नियंत्रक द्वारा हर कुछ मिलीसेकंड्स के बाद मेमोरी में डेटा को बनाए रखने के लिए रिफ्रेश कर देते हैं। DRAM में मेमरी सेलस को Rows और columns में व्यवस्थित किया जाता है। प्रत्येक कक्ष में एक Rows और एक columns Reference Number है। DRAM सेल Reference Number का उपयोग करते हुए डेटा तक पहुंचता है। DRAM SRAM की तुलना में कम महंगा होता है।

विभिन्न प्रकार के DRAM जो कि एक डेस्कटॉप कंप्यूटर में उपयोग किए जाते हैं:

  • SDRAM (Synchronous Dynamic Random Access Memory)
  • RD RAM (Rambus Dynamic Random Access Memory)
  • DDR1 RAM
  • DDR2 RAM
  • DDR3 RAM
रोम (ROM) क्या होता है ? (What is ROM?)

ROM केवल डाटा को रीड करने के लिए होती है यह डेटा को स्थायी रूप से संग्रहीत करता है और यह एक Non-volatile Memory है। यह सिस्टम बंद होने के बाद भी डाटा नहीं खोता है। नतीजतन, रोम स्थायी डेटा संग्रहण क्षेत्र है विभिन्न प्रकार के रोम हैं: –

  1. PROM (Programmable Read Only Memory)
  2. EPROM (Erasable Programmable Read Only Memory)
  3. EEPROM (Electrically Erasable Programmable Read Only Memory)
  • PROM : PROM चिप एक Programmable Read Only Memory होती है यह डाटा को स्थायी रूप से स्टोर करता है और यह एक Non-volatile Memory होता है। PROM एक मेमोरी चिप है जो डेटा को केवल एक बार ही प्रोग्राम किया जा सकता है। इस वजह से, PROM चिप्स को अक्सर One Time Programmable (OTP) चिप्स के रूप में जाना जाता है। PROM में स्थायी रूप से स्टोर डाटा को मिटाने रॉम की प्रोग्रामिंग को कभी-कभी बर्निंग (Burning) के रूप में जाना जाता है और इसके लिए एक विशेष मशीन की आवश्यकता होती है जिसे ROM Burner कहा जाता है।
  • EPROMErasable Programmable Read Only Memory का अर्थ है EPROM में स्थायी रूप से स्टोर डाटा को मिटाने के लिए अल्ट्रा वायलेट (UV) किरण का प्रयोग किया जाता हैं। इसे आसानी से एक EPROM Eraser एक उपकरण की सहायता से, जिसमें एक यूवी प्रकाश स्रोत होता है जो चिप को एक रासायनिक प्रतिक्रिया के कारण डाटा को मिटा देता है।
  • EEPROM/FLASH ROM : Electrically Erasable Programmable Read Only Memory का अर्थ है EEPROM में भी डाटा को स्थायी रूप से स्टोर किया जाता है यह भी सिर्फ डाटा और प्रोग्राम को पढने योग्य होता है। Electrical Signal की सहायता से स्थायी रूप से स्टोर डाटा को हटा दिया जाता है इसे हाइब्रिड मेमोरी भी कहा जाता है क्योंकि यह रैम के समान पढ़ता है और लिखता है, लेकिन रॉम के समान डेटा रखता है। यह रैम और रोम का एक मिश्रण है।

सेकेंडरी मेमोरी क्या होता है ? (What is secondary memory?)

सेकेंडरी मेमोरी का उपयोग डेटा या प्रोग्राम को स्थाई रूप से जमा करने के लिए किया जाता है। कंप्यूटर को  पावर ऑफ करने के बाद भी मेमोरी में स्टोर डाटा या प्रोग्राम नष्ट नहीं होती है। हार्ड डिस्क (Hard Disk), फ्लॉपी डिस्क (Floppy Disk), मैग्नेटिक टेप (Magnetic Tape), CD (Compact Disk), DVD (Digital Video Disk), Memory card (SD Card), Zip Drive, Flash Drive (Pen Drive), Blue Ray Disk (BD-R Disc) और External Hard Disk Drive सब सेकेंडरी मेमोरी के उदाहरण है और Permanent Storage Solution है  ये Non Volatile Memory है और डाटा को स्थाई रूप से स्टोर करती है और ये सब सेकेंडरी मेमोरी के उदाहरण हैं। अब आप कंप्यूटर मेमोरी क्या है और उसके सभी प्रकार के बारे में जान चुके है।

यह भी जानें –

प्रिय पाठकों, मै आशा करता हु की आपको हमारा कंप्यूटर मेमोरी क्या है ? पर ये पोस्ट काफी पसंद आया होगा। अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे जरुर अपने दोस्तों के साथ शेयर करे। हमने कोशिस किया है की कंप्यूटर मेमोरी क्या है और उनके प्रकार ? की पूरी जानकारी एवं आपको आसन और विस्तृत रूप में वर्णन कर सके। अगर आपको कोई भी उलझन हो तो निचे कमेंट करे। यदि आप हमसे सम्पर्क करना चाहते या आपके पास कोई सुझाव है तो आप हमसे संपर्क करे। हम आपके सुझाव का स्वागत करते हैं, हम जल्द ही इसकी मोबाइल-एप्प भी आप तक लाने का प्रयास करेंगे। हमारी यूट्यूब चैनल देखने के लिए यहाँ क्लिक करे |

आशा है आपको ये शानदार पोस्ट पसंद आई होगी. 
इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है।

Join Our Hindi Community of 5,00,000+ Readers!

सब्सक्राइब करें और पाएं अपडेट सीधे अपने इनबॉक्स में

सदस्यता लेने के लिए धन्यवाद।

कुछ गलत हो गया।

2 Comments

    • Shivam Pandey 28/11/2017
पेन ड्राइव को बूटेबल कैसे बनाये (How to Make Bootable USB Pendrive)
पेन ड्राइव को बूटेबल कैसे बनाये – जानें हिन्दी मे
कंप्यूटर हार्डवेयर ऑनलाइन टेस्ट (Computer Hardware Online Test) - Free
कंप्यूटर हार्डवेयर ऑनलाइन टेस्ट | Quiz | Exam
प्रिंटर क्या है और उसके प्रकार (What is Printer and Types of Printer)
प्रिंटर क्या है और उसके प्रकार – जाने हिन्दी मे
Computer Assemble कैसे करे (How to Assemble a Computer)
Computer Assemble कैसे करे? विस्तार से जानिए
error: DMCA Protected !!